वर्जिनिटी और हाइमन से जुड़े तथ्य

0
31
Facts about virginity and hymen

वर्जिनिटी और हाइमन से जुड़े तथ्य Facts about virginity and hymen

Facts about virginity and hymen- कौमार्य हमेशा से एक ऐसा विषय रहा है जिसके बारे में लोग अधिक से अधिक उत्सुकता से जानना चाहते हैं। कई बार ऐसा होता है कि लोग समाज में फैसे इससे जुड़े मिथक को भी सच मान लेते हैं। और लोग हमेशा कौमार्य और हाइमन को एक दूसरे से जोड़ते हैं।

वर्जिनिटी और हाइमन के बारे में हम में से आधे से ज्यादा लोग जो जानते हैं, वह गलत है। इनमें से अधिकतर बातें मिथक हैं और इन्हें बिना किसी विज्ञान के बताया जाता है।

यदि आप हाइमन और कौमार्य के बारे में सच्चाई जानते हैं, तो आपको आश्चर्य होगा कि आपने अब तक कितना गलत सुना है।

कौमार्य का हाइमन की स्थिति से कोई लेना-देना नहीं है। यह दोनों एक अलग अलग चीजें हैं। कौमार्य तभी टूटता है जब कोई व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के साथ यौन संबंध रखता है। और हायमन घुड़सवारी या व्यायाम जैसे खेल करते समय खिंच या फट सकता है।

आज के इस लेख में हम कौमार्य और हाइमन के बारे में कुछ खास जानकारी साझा कर रहे हैं, जो आपको इसके बारे में ठीक से समझाने के लिए काफी होगी।

आइये जानते हैं हाइमन से जुड़ी कुछ बातें – Facts about virginity and hymen

हाइमन नहीं फटता

आपने अक्सर सुना होगा कि पहली बार सेक्स करने के बाद हाइमन फट जाता है और खून निकलता है, जो महिला के कौमार्य होने का सबूत होता है। यह सिर्फ एक मिथक है। यह कभी फटता नहीं बल्कि खींचता है। यह कोई बुलबुला या फुंसी नहीं बल्कि ऊतक का एक टुकड़ा है।

ऊतक का हिस्सा

आपको बता दें कि हाइमन ऊतक का एक हिस्सा है जो योनि की दीवार से जुड़ा रहता है। यह योनि के चारों ओर ऊतक के एक किनारे जैसा दिखता है।

रूपरेखा में बदलाव

जब महिला बच्चे को जन्म देती है तो हाइमन की संरचना में बदलाव आता है। इस दौरान इसमें आने वाले बदलाव साफ देखे जा सकते हैं। यह बहुत चिकना होता है और आसानी से खिंच जाता है।

स्थान

यह योनि के खुलने से 1 से 2 सेमी अंदर होता है। नवजात शिशु का हाइमन बहुत मोटा होता है और यह शरीर में भी बहुत प्रमुख होता है। लेकिन उम्र के साथ धीरे धीरे यह पतला होता जाता है।

हाइमन अलग अलग दिखता है

हर महिला के शरीर की संरचना अलग होती है, उसी तरह हाइमन की संरचना भी अलग होती है। इसका रंग, आकार और आकार अलग-अलग होता है। कुछ महिलाओं में यह आधा चाँद जैसा दिखता है और कुछ में यह गुलाब के पत्ते जैसा दिखता है।

मिथक -लड़कों को पहली बार सेक्स करते समाय ज़ोर लगाना पड़ता है। Facts about virginity and hymen

अगर कोई ऐसा सोचता है, तो आपको अभी भी सेक्स के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है! लिंग को किसी भी बाधा को तोड़ना नहीं है, बस उसे आसानी से योनि के अंदर  जाना है,  घुसना है और सरकना है।

अगर लड़की तनाव में है, तो वह योनि की मांसपेशियां टाइट महसूस हो सकती हैं। और ऐसे में हमारे दिमाग में जबरदस्ती करने की भी नौबत नहीं आनी चाहिए।  योनि ऊतक बहुत नरम होता है और आसानी से क्षतिग्रस्त हो सकता है जो एक लड़की के लिए दर्दनाक हो सकता है।

अपना समय लें, धैर्य से लड़की या महिला को तब तक चूमते, थपथपाते और छूते रहें जब तक कि दोनों साथी पूरी तरह से उत्तेजित न हो जाएं और जब तक योनि बिना बल के प्रवेश के लिए पर्याप्त गीली न हो जाए। तब सेक्स दोनों के लिए आनंददायक होगा।

मिथक – पहले सेक्स के दौरान खून निकलना जरुरी होता है। Facts about virginity and hymen

ऐसा जरूरी नहीं है। कई बचपन में खेलते या साइकल चलाते समय हाइमन फट या टूट है। यह कतई जरूरी नहीं है कि फर्स्ट इंटरकोर्स में हर औरत को ब्लीडिंग होना चाहिए।

सच्चाई – वर्जिनिटी का पता लगाना मुश्किल है

कोई भी पुरुष इस बात का पता हरगिज नहीं कर सकता कि उसकी पार्टनर वर्जिन है या नहीं। जब तक स्वयं उसकी महिला साथी यह राज न खोले कि उसका पहले किसी अन्य पुरुष के साथ सेक्सुअल रिलेशनशिप है या नहीं। और मेडिकल टेस्ट द्वारा किसी भी महिला की वर्जिनिटी टेस्ट कराना कानूनन अपराध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here