अपने बच्चे को सेक्स एजुकेशन कैसे दें ?

0
119
sex education in hindi thedailyindia

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

Sex education in hindi-आज भी पढ़े-लिखे जागरूक लोग सेक्स जैसे महत्वपूर्ण विषय पर बात करके या चर्चा करने में शरमाते हैं, जिसे भारत में हमेशा से एक रहस्य माना गया है, तो बच्चों को सेक्स शिक्षा देना तो दूर की बात है… . क्या हमने कभी सोचा है कि इसका क्या असर हो सकता है? क्या यह सच नहीं है कि आज बच्चों के इन सवालों का जवाब देना आसान है, लेकिन कल उनकी समस्याओं का समाधान करना बहुत मुश्किल होगा…?

अक्सर माता-पिता यह सोचकर अपने बच्चों को सेक्स के बारे में कोई जानकारी देना जरूरी नहीं समझते हैं कि उन्हें भी उनके माता-पिता ने इसके बारे में कुछ नहीं बताया… तो क्या इससे उनकी सेक्स लाइफ पर कोई बुरा असर पड़ा? फिर आज दुनिया इतनी उन्नत हो गई है कि बच्चों को उम्र से पहले ही सब कुछ पता चल जाता है… फिर अलग से समझाने और समझने की क्या जरूरत है? लेकिन अक्सर हमारी यही सोच बच्चों के लिए हानिकारक साबित होती है।

हम अपने बच्चों को सेक्स एजुकेशन दें या न दें, उन्हें पोर्न मैगजीन, टीवी, फिल्म, इंटरनेट, यहां तक ​​कि टॉयलेट की दीवारों से भी सेक्स से जुड़ी कई ऐसी आधी-अधूरी और भड़काऊ जानकारियां मिलती हैं, जो उन्हें गुमराह करने के लिए पर्याप्त हैं। उस पर उनका चंचल मन अपने शरीर की अपरिपक्वता को जाने बिना सेक्स के साथ प्रयोग करने लगता है, और कई मामलों में तो वे इसे हासिल भी कर लेते हैं… और नतीजा क्या होता है? कई शारीरिक-मानसिक रोग, आत्मग्लानि, पछतावे… और पढ़ाई का नुकसान, करियर इतना अलग है…

लेकिन हमारी विडंबना यह है कि 21वीं सदी के जेट युग में रहने के बाद भी हम अभी भी यह तय नहीं कर पा रहे हैं कि हमें अपने बच्चों को यौन शिक्षा देनी चाहिए या नहीं और फिर कब और कैसे…? जबकि अब समय आ गया है कि यौन शिक्षा देने या न देने के अलावा हमें यह सोचना चाहिए कि बच्चों को यौन शिक्षा कैसे और किस उम्र से दी जाए।

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

जन्म से यह शिक्षा देना शुरू करें 

चूँकि बच्चा भी हमारी तरह एक आम इंसान है और हर इंसान में सेक्स की भावना होती है, इसलिए यह भावना बच्चे में जन्म से ही मौजूद होती है और वह अपने शरीर के सभी अंगों के बारे में जानने के लिए भी उत्सुक रहता है, जो कि एक आदर्श है। सामान्य बात। लेकिन अधिकांश माता-पिता इस पर ध्यान नहीं देते हैं और बच्चों को उचित मार्गदर्शन नहीं दे पाते हैं।

कई बार ऐसा भी होता है कि हम बचपन से ही बच्चे के नाजुक दिमाग में सेक्स को लेकर उत्सुकता जगाने लगते हैं। जब एक बच्चा पैदा होता है, तो वह दुनिया और यहां तक ​​कि अपने शरीर के बारे में कुछ भी नहीं जानता है। ऐसे में जब भी बच्चा दूसरे अंगों की तरह अपने प्राइवेट पार्ट को छूता है या बिना कपड़े पहने सबके सामने आता है तो माता-पिता तुरंत उसे फटकार लगाते हैं।

उस समय मासूम को अपनी गलती का अहसास नहीं होता, बल्कि उसके मन में कौतूहल उठने लगता है कि मेरे शरीर के इस अंग को छूना क्यों मना है। इसलिए माता-पिता की डांट से बचने के लिए वह अकेले ही अपने गुप्तांगों को छूने लगता है और माता-पिता को इस बात का पता भी नहीं चलता। इसलिए माता-पिता को बच्चों की सामान्य गतिविधियों पर भी उन्हें डराना नहीं चाहिए, उनका व्यवहार समय के साथ अपने आप बदल जाएगा।

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

3-4 साल के बच्चे को क्या बताएं?

3-4 साल की उम्र से ही समझा दें कि बेटा जिस तरह सभी लोगों के ब्रश, तौलिये आदि पूरी तरह से प्राइवेट और अलग होते हैं और उनका इस्तेमाल किसी और को नहीं करना चाहिए, उसी तरह आपके शरीर के ये हिस्से भी पूरी तरह से प्राइवेट हैं। जिसे आपको किसी और के सामने नहीं खोलना चाहिए।

साथ ही यह भी बताएं कि अगर कोई उसके इन अंगों को छूता या सहलाता है, तो वह आपको तुरंत बताए। ऐसा करने से हम बच्चों को उनके प्राइवेट पार्ट की प्राइवेसी के प्रति जागरूक होने के साथ-साथ बाल यौन शोषण से भी बचा पाएंगे।

5-6 साल के बच्चे को क्या बताएं

मां 5-6 साल के बच्चे से कह सकती है कि अब तुम मुझे अपने प्राइवेट पार्ट नहीं दिखाने चाहिए, इसलिए अब तुम्हें खुद ही नहाना होगा। इस तरह वे जान पाएंगे कि उनके प्राइवेट पार्ट बिल्कुल प्राइवेट हैं, जिन्हें देखने या छूने का अधिकार किसी को नहीं है।

6-7 साल में क्या बताएं

6-7 साल की उम्र के आसपास के बच्चों को अपने माता-पिता पर बहुत भरोसा होता है। वे अपने पिता को हीरो और मां को रोल मॉडल मानने लगते हैं। उनके माता-पिता के शब्द उनके लिए अंतिम शब्द हैं। ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाती है कि वे अपने बच्चे के सामने ऐसी कोई हरकत या बात न करें, जिससे बच्चे के दिमाग पर खराब छवि बने, क्योंकि अगर माता-पिता गलत तरीके से उनके सवालों का जवाब देते हैं।

और बाद में उन्हें इसके बारे में पता चलता है, तब माता-पिता पर से उनका विश्वास गिरने लगता है और उनके मन में बनी माता-पिता की सबसे अच्छी छवि भी टूटने लगती है। इसलिए इस उम्र में माता-पिता को बहुत सावधान रहना चाहिए और बच्चों द्वारा पूछे गए सवालों का सही और तार्किक जवाब देना चाहिए।

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

8 से 12 वर्ष बच्चों को क्या बताएं

इस समय बच्चों को उनके शरीर में होने वाले बदलावों यानि मासिक धर्म, स्तनों का विकास, जननांगों में बाल आने आदि के बारे में बताएं। वैसे भी इस उम्र में लड़के-लड़कियां अपने शरीर में होने वाले बदलावों को लेकर असमंजस की स्थिति में रहते हैं। ऐसे में आपका मार्गदर्शन उनके कई भ्रमों को दूर कर सकता है।

आमतौर पर 12 साल की उम्र तक बच्चे सेक्स या बच्चे के जन्म से जुड़ी बातों को समझने के लिए तैयार हो जाते हैं। उनके मन में भी सेक्स और सामाजिक संबंधों के बारे में जानने की जिज्ञासा जागृत होने लगती है। इस दौरान उन्हें एसटीडी (सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज), टीन प्रेग्नेंसी के नुकसान आदि के बारे में बताएं, ताकि बाद में वे किसी प्रकार का कोई गलत कदम न उठा सकें।

13 से 19 वर्ष के बच्चे

यह उम्र का वह दौर होता है, जब बच्चे अपनी आजादी से बहुत प्यार करते हैं और उन पर अपने दोस्तों का काफी प्रभाव होता है। कई बार न चाहते हुए भी युवा दोस्तों की बातों में आकर सेक्स को लेकर एक्सपेरिमेंट करने लगते हैं। फिर कई बार दोस्तों को मिला आधा-अधूरा ज्ञान भी उन्हें गुमराह कर देता है। दूसरी बात इस उम्र में भी सेक्स के बारे में बहुत कुछ जानने की जिज्ञासा होती है। ऐसे में उत्तेजक जानकारी उन्हें सेक्स के लिए उकसाने का काम भी कर सकती है। इसलिए इस उम्र में आप उन्हें किशोर गर्भावस्था, यौन संचारित रोग, गर्भपात से होने वाली शारीरिक और मानसिक समस्याओं से अवगत कराएं, ताकि वे गुमराह होने से बच सकें।

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

ऐसे करें बच्चे को अलर्ट

बच्चों को गुड और बैड टच के बारे में बताएं। अगर कोई करीबी रिश्तेदार, पड़ोसी, शिक्षक या डॉक्टर आदि उन्हें गलत इरादे से छू भी लेते हैं, तो उन्हें तुरंत सूचित करने के लिए कहें। आपका यह प्रशिक्षण बच्चे को यौन शोषण से सुरक्षित रखेगा। क्योंकि कई बार ऐसा होता है कि बच्चे अपने करीबी लोगों के गलत स्पर्श को भी समझ नहीं पाते हैं और जाने-अनजाने उनके मोह में फंस जाते हैं और माता-पिता को उनके यौन शोषण की खबर भी नहीं मिलती है. और जब तक सच सामने आता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।

Sex education in hindi-सेक्स एजुकेशन हिंदी में

बच्चों के सवालों के गलत जवाब न दें

अक्सर बच्चे अपने माता-पिता से पूछते हैं कि उनका जन्म कैसे हुआ? इसके जवाब में माता-पिता कभी-कभी ‘अस्पताल से लाओ’, ‘भगवान से मांगा’ जैसे जवाब देते हैं, लेकिन ऐसा करना सही नहीं है। आप बच्चे को इतना ही बता सकते हैं कि वह मां के गर्भ में अंडे के रूप में आया, फिर गर्भ में ही बड़ा हुआ और योनि से निकला। यानी बच्चे जब भी पूछें तो उन्हें अपने किसी भी सवाल का संतोषजनक जवाब देना चाहिए, ताकि उन्हें भी सही जानकारी मिले और उन्हें भी आप पर पूरा भरोसा हो और आगे भी वे अपने मन में उठने वाली हर जिज्ञासा को आपसे पूछ सकें।

अगर आपको बच्चे द्वारा पूछे गए सवाल का कोई जवाब इस समय समझ में नहीं आ रहा है तो उससे पूछें कि आप कुछ देर बाद उसके सवाल का जवाब देंगे और फिर बच्चे के सवालों का जवाब सोच-समझकर देंगे। इसके अलावा अगर आपका बच्चा सेक्स से जुड़ा कोई सवाल नहीं पूछता है तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप इस टॉपिक को इग्नोर कर दें। शरीर क्रिया विज्ञान के रूप में आप बच्चे को यौन शिक्षा दे सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here